भारतीय प्रेग्नेंट महिला की मौत पर पुर्तगाल में हंगामा, स्वास्थ्य मंत्री को देना पड़ा इस्तीफा

0
30

[ad_1]

Marta Temido Resign: पुर्तगाल (Portugal) की स्वास्थ्य मंत्री (Health Minister) मार्टा टेमिडो (Marta Tornido) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. उन्होंने ये कदम भारतीय गर्भवती महिला (Indian Pregnant Woman) की मौत के बाद उठाया है. ये भारतीय महिला पुर्तगाल में घूमने के लिए गई थी और गर्भवती भी थी. महिला डिलीवरी के लिए अस्पताल (Hospital) पहुंची, लेकिन अस्पताल में बेड खाली नहीं होने पर उसे दूसरे अस्पताल ले जाया गया, लेकिन वहां महिला की कथित रूप से दिल का दौरा पड़ने (Heart Attack) से मौत हो गई.

इस महिला ने एक बच्चे को भी जन्म दिया. महिला की उम्र 34 साल थी और उसे कथित रूप से देश के एक बड़े अस्पताल से ट्रांसफर करने के दौरान दिल का दौरा पड़ गया, जिसमें उसकी मौत हो गई. हालांकि ये कोई पहली घटना नहीं थी. कहा जा रहा है कि मैटरनिटी यूनिट में स्टाफ की कमी से पहले भी इस तरह की कई घटनाएं हो चुकी थीं. डॉक्टर मार्टा टेमिडो साल 2018 से पुर्तगाल की स्वास्थ्य मंत्री थीं और कोरोना वायरस से निपटने का उन्हें श्रेय भी दिया जाता है.

स्वास्थ्य मंत्री बने रहने के योग्य नहीं

मंगलवार को पुर्तगाल सरकार ने एक बयान जारी करते हुए बताया कि टेमिडो ने ये समझ लिया है कि वो अब स्वास्थ्य मंत्री बने रहने के योग्य नहीं है. पुर्तगाल की लूसा न्यूज एजेंसी के मुताबिक प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा ने कहा कि महिला महिला की मौत के बाद ही उनका इस्तीफा लिया गया है. मैटरनिटी यूनिट में स्टाफ की कमी की वजह से सरकार को विरोध का सामना भी करना पड़ रहा है. गर्भवती महिलाओं को एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में जाना पड़ता है.

भारतीय महिला की मौत के मामले में जांच के आदेश

स्थानीय मीडिया (Local Media) की एक रिपोर्ट के मुताबिक गर्भवती टूरिस्ट (Pregnant Tourist) को लिस्बोन के सांता मारिया हॉस्पिटल (Santa Maria Hospital) से ट्रांसफर किया गया. जानकारी के लिए बता दें कि ये देश का सबसे बड़ा अस्पताल है. इस अस्पताल के मैटरनिटी यूनिट (maternity unit) में बेड खाली नहीं था. इसके बाद महिला को दूसरे अस्पताल भेजा गया जहां उसकी मौत हो गई. हालांकि महिला ने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म भी दिया. इस मामले में जांच (Investigation) के आदेश दे दिए गए हैं.

ये भी पढ़ें: Mikhail Gorbachev: सोवियत संघ के नेता मिखाइल गोर्बाचेव का निधन, बिना खून बहे शीतयुद्ध को किया था खत्म

ये भी पढ़ें: Cow Therapy: ऑस्ट्रेलिया में बज रहा भारतीय नस्ल की गायों का डंका, ऑटिज्म और मानसिक रोगियों को काऊ थेरेपी से मिल रहा फायदा

[ad_2]

Source Link